Home B.Ed. Psychological Perspective of Education

Psychological Perspective of Education

Psychological Perspective of Education Psychological Perspective of Education is a शिक्षा के मनोवैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य. This Topic All Chapter available here. Thanku For joining News Expand Education Panel.

शिक्षा के मनोवैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य

बिना मनोविज्ञान की सहायता के शिक्षा प्रक्रिया सुचारू रूप से नहीं चल सकती। शिक्षा मनोविज्ञान से तात्पर्य शिक्षण एवं सीखने की प्रक्रिया को सुधारने के लिए मनोवैज्ञानिक सिद्धान्तों का प्रयोग करने से है। शिक्षा मनोविज्ञान शैक्षिक परिस्थितियों में व्यक्ति के व्यवहार का अध्ययन करता है। इस प्रकार शिक्षा मनोविज्ञान में व्यक्ति के व्यवहार, मानसिक प्रक्रियाओं एवं अनुभवों का अध्ययन शैक्षिक परिस्थितियों में किया जाता है।

Psychological Perspective of Education

The next perspective of educational psychology is the cognitive perspective. Cognitive psychology is the theoretical perspective that focuses on learning based on how people perceive, remember, think, speak and problem-solve. The cognitive perspective differs from the behaviorist perspective in two distinct ways. मापन व मूल्यांकन के मनोवैज्ञानिक सिद्धान्तों का ज्ञान भी मनोविज्ञान से. मिलता है। वर्तमान की परीक्षां प्रणाली से उत्पन्न छात्रो में डर, चिन्ता,. नकारात्मक प्रवृत्ति जैसे आत्महत्या करने से छात्रों के व्यक्तित्व का । विघटन साथ ही समाज का भी विघटन होता है। अतः सीखने के. परिणामों का उचित मूल्यांकन करना तथा उपचारात्मक शिक्षणं देना । शिक्षक का ध्येय होना चाहिए । समूह गतिकी का ज्ञान शिक्षा मनोविज्ञान कराता है ।

शिक्षण Teaching

MOST POPULAR

HOT NEWS

DMCA.com Protection Status