इलाहाबाद का नाम अब प्रयाग होगा. कुम्भ 2019 से पहले

भारत के दूसरें सबसे पुरानें शहर को अपना पुराना एतिहासिक नाम वापिस मिल जायेगा जो कभी अकबर ने बदल दिया था

इलाहाबाद का नाम अब प्रयाग होगा कुम्भ से पूर्व !! 🧘‍♂️

🗣 भारत के दूसरें सबसे पुरानें शहर को अपना पुराना एतिहासिक नाम वापिस मिल जायेगा जो कभी अकबर ने बदल दिया था.

🤔 पर क्या नाम बदलने से AU की हालत और प्रदूषण के स्तर पर विश्व में अव्वल प्रयाग में नाम से क्या बदलाव होगा. थोड़ा ध्यान इधर भी…..🙋‍♂️

लगातार मिल रहे थे संकेत

इलाहाबाद अर्थात् संगमनगरी अपने प्राचीन नाम प्रयाग से भी विख्यात है। यह भारत का दूसरा सबसे पुराना नगर है जो उत्तर प्रदेश में स्थित है। भारत के पवित्र ग्रंथों में इस नगर का उल्लेख है। पुराणों में नाम प्रयाग। यह नगर गंगा, यमुना और सरस्वती के त्रिवेणी संगम के लिए भी जाना जाता है जिसके लिए कई पर्यटक यहाँ आते हैं। कुम्भ मेले की मेजबानी के अलावा यह पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र है जो भारत की समृद्वि को भी परिभाषित करता है।

कुम्भ के दौरान या किसी और समय इलाहाबाद किले, पातालपुरी मंदिर, अशोक स्तम्भ, अक्षय वट, हनुमान मंदिर, शंकर विमान मंडप, मनकामेश्वर मंदिर, मिन्टो पार्क, स्वराज भवन, आनंद भवन, जवाहर तारामंडल, इलाहाबाद संग्रहालय, कंपनी बाग़, खुसरो बाग़ और मेमोरियल हाल आदि आकर्षण का केन्द्र हैं।


यह भी पढ़ें :- प्रयाग की शान है ये स्थल

औषधीय पौधे और जड़ी बूटियां रोचक बातें

हमेशा मिलती है जीत इन तीन राशि वाले लोगों के जीवन में, कोसों दूर है हार इनसे

चाणक्य और चंद्रगुप्त Chanakya and Chandragupta

स्वामी विवेकानंद आपको बताएंगे कि सहनशीलता क्या चीज होती है?

आज की वाणी – Today voice

मज़ेदार फ्री किताब डाउनलोड करने के ये 8 स्थान

प्राकृतिक चिकित्सा क्या है विस्तार से जाने Natural medicine

आयुर्वेद क्या है, जाने रोचक बाते

तरोताजा रहने के लिए अपनाएं ये उपाय, दूर होगा तनाव क्योंकि जान है तो जहान है

गालिब को जाने कुछ प्रमुख लाईनो के साथ

गरुड़ासन – Garudasana Yoga

यूनानी के सिद्धांत और अवधारणाएं, चिकित्सा विज्ञान, औषध नियंत्रण, भेषज प्रयोगशाला, अनुसंधान, अस्पताल और औषधालय, शिक्षा


1 COMMENT

Comments are closed.